Kamakhya mantra

Kamakhya mantra


आज के इस अध्याय में हम आपको देवी कामाख्या से जुड़े कुछ ऐसे प्रभावशाली मंत्र Kamakhya mantra बताने जा रहे हैं जिनका प्रयोग करके आप अपने जीवन को अत्यधिक सुखमय बना सकते हैं ।

तो आइए सबसे पहले यह जान लेते हैं कि कौन है मां कामाख्या । देवी सती का ही एक रूप है माँ कामाख्या | हमारे हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार जब देवी सती ने आत्मदाह कर लिया था, तब भगवान भोलेनाथ अत्यधिक क्रोधित होकर उनके शव को अपने हाथ में लेकर संपूर्ण ब्रह्मांड में विचरण करने लगे । इस परिस्थिति को रोकने के लिए भगवान श्री विष्णु सामने आए और उन्होंने अपने सुदर्शन चक्र द्वारा देवी सती के शव को खंडित कर कई टुकड़ों में कर दिया । देवी सती के शव के टुकड़े जहां-जहां इस पृथ्वी पर गिरते गए वह सभी स्थान अंत में देवी सती के सिद्ध पीठ कहलाए ।

Kamakhya मंदिर की स्थापना की कहानी –

भगवान श्री विष्णु के सुदर्शन चक्र के प्रहार से देवी सती के शरीर के कुल 51 टुकड़े हुए थे और यह पूरे 51 टुकड़े जहां-जहां गिरे वे सभी देवी सती के सिद्ध पीठ के कहलाए जाते हैं । देवी सती का योनि जिस स्थान पर गिरा वह स्थान आज मां कामाख्या देवी सिद्धपीठ नाम से कहलाता है, और उसी नाम से विख्यात है पूरे विश्व में । देवी कामाख्या का यह सिद्ध पीठ एक ऐसा अद्भुत चमत्कारी और शक्तिशाली मंदिर है जहां पर विश्व भर में दूर-दूर से भक्त अपनी मनोकामना पूरी करने तो आते ही हैं साथ ही तंत्र साधनाओं में सिद्धि प्राप्त करने के लिए तांत्रिकों का भी आना जाना लगा रहता है ।

ऐसा माना जाता है की मां कामाख्या की उपासना करने मात्र से ही मां कामाख्या प्रसन्न होकर अति शीघ्र फल प्रदान करती है | जो भी जातक या भक्त मां कामाख्या की नियमित तौर पर सच्चे मन और श्रद्धा से पूजा करता है वह सारी उम्र सुख भोगता है और दुख पीड़ा या आम जिंदगी में आने वाले कष्ट ऐसे जातक से कोसों दूर रहते हैं । तो आइए जान लेते हैं कि वह कौन से ऐसे प्रभावशाली और शक्तिशाली मंत्र हैं जो आपके जीवन में खुशियां भर देंगे ।

  1. Kamakhya mantra – मां कामाख्या देवी का बीज मंत्र

मां कामाख्या देवी का यह बीज मंत्र बहुत ही शक्तिशाली और अचूक मंत्र है | इस बीज मंत्र का उपयोग घर गृहस्ती में खुशियां समृद्धि, धन का आगमन आदि मनोकामनाओं को प्राप्त करने के लिए उपयोग किया जाता है । ऐसा माना जाता है कि जो भी जातक इस बीज मंत्र का नियमित तौर पर जाप करता है उसके घर में हर तरह की सुख – समृद्धि और धन का आगमन बना रहता है ।

क्लीं क्लीं कामाख्या क्लीं क्लीं नमः

इस बीज मंत्र का उपयोग करने के लिए प्रतिदिन सुबह उठकर स्नानादि करने के बाद शुद्ध हो जाएं, उसके बाद अपने पूजा गृह में मां कामाख्या की एक फोटो या प्रतिमा स्थापित करें और उस प्रतिमा के आगे धूप और दिया दे | उसके पश्चात ऊपर दिए गए इस बीज मंत्र का तीन माला जप करें, मंत्र जप करते समय मन में मां कामाख्या का स्मरण करें और साथ ही जो भी आपकी मनोकामनाएं हैं उसकी पूर्ति हेतु मां कामाख्या से प्रार्थना करें | इस तरह एक 41 दिनों तक इसी तरह मंत्रों का जाप करें उसके पश्चात आप खुद ही देखेंगे कि आपके घर में हर तरह की सुख समृद्धि, धन का आगमन व्यापार व्यवसाय में वृद्धि होने लगेगी ।

  1. Kamakhya mantra – मां कामाख्या देवी प्रणाम मंत्र

कामाख्ये कामसम्पन्ने कामेश्वरि हरप्रिये |
कामनां देहि मे नित्यं कामेश्वरि नमोऽस्तु ते ||

मां कामाख्या देवी की पूजा अर्चना या आराधना करते समय या किसी भी Kamakhya mantra का उच्चारण या जप करने से पहले इस प्रणाम मंत्र का एक बार जाप करना अनिवार्य है, इस मंत्र के जरिए हम मां कामाख्या का स्मरण करते हैं और उनसे प्रार्थना करते हैं कि हमारी पूजा अर्चना या तंत्र साधना को संपूर्ण करने में अपना आशीर्वाद दें, इसलिए जब कभी भी आप मां कामाख्या देवी की पूजा अर्चना या कोई मंत्र साधना करें तो एक बार इस मंत्र का जप पहले जरूर करें उसके बाद ही उनकी पूजा-अर्चना करें या मंत्र साधना करें।

  1. मां कामाख्या तांत्रिक मंत्र

त्रीं त्रीं त्रीं हूँ हूँ स्त्रीं स्त्रीं कामाख्ये प्रसीद स्त्रीं स्त्रीं हूँ हूँ त्रीं त्रीं त्रीं स्वाहा

मां कामाख्या का यह kamakhya mantra कोई साधारण मंत्र नहीं है देवी कामाख्या का यह मंत्र तंत्र और मंत्र साधना के अंतर्गत आता है, यह अत्यंत शक्तिशाली मंत्र है और शास्त्रों के अनुसार ऐसा माना गया है कि जो भी साधक यह तांत्रिक इस मंत्र में सिद्धि प्राप्त कर लेता है उसे जीवन में किसी भी प्रकार की कोई भी कठिनाइयां नहीं आती, और ना ही उसके ऊपर कोई भूत-प्रेत, जादू-टोना का असर होता है |

एक बार इस Kamakhya mantra में जो सिद्धि प्राप्त कर लेता है उसके लिए कोई भी काम कठिन नहीं होता, और ऐसा कोई भी कार्य नहीं है जिसे वह पूर्ण ना कर सके, पर इस मंत्र को सिद्ध करने के लिए कामाख्या देवी के शक्तिपीठ पर ही जाकर ही सिद्ध किया जा सकता है और इस मंत्र को किसी योग्य गुरु के निर्देश या सानिध्य में ही करना उचित माना गया है ।

  1. मां कामाख्या वशीकरण मंत्र

||ॐ नमो कामाक्षी देवी आमुकी में वंशं कुरु कुरु स्वः||

वैसे तो वशीकरण करने के कई मंत्र हैं पर हर वशीकरण मंत्रो में सबसे ज्यादा शक्तिशाली और अचूक वशीकरण मंत्र मां कामाख्या वशीकरण मंत्र को माना गया है | ऐसा माना जाता है कि जो भी साधक या तांत्रिक इस Kamakhya mantra को सिद्ध कर लेता है उसके लिए वशीकरण करना बाएं हाथ का खेल होता है, और उसका किया हुआ वशीकरण कभी कोई तोड़ नहीं पाता। इस वशीकरण मंत्र के द्वारा आप किसी भी स्त्री, पुरुष या इच्छित व्यक्ति को अपने वश में आसानी से कर सकते हैं | पर मां कामाख्या देवी के इस वशीकरण मंत्र को सिद्ध करना कोई आसान काम नहीं है पर यह असंभव भी नहीं है |

अगर जातक के अंदर दृढ़ संकल्प और मन में सच्चाई हो तो इस मंत्र में वह सिद्धि प्राप्त कर सकता है, पर इस Kamakhya mantra की सिद्धि को प्राप्त करने की विधि विधान बहुत कठिन और लम्बी है | इस मंत्र को सिद्ध आप किसी किताब को पढ़कर नहीं कर सकते हैं इस मंत्र में सिद्धि को प्राप्त करने के लिए आप किसी योग गुरु के सानिध्य में ही मंत्र का जाप शुरू करें अन्यथा इसके परिणाम दुरपरिणाम में बदल सकते हैं। कभी भी बिना गुरु के सानिध्य में इस मंत्र के जाप का प्रयास ना करें और अगर अत्यधिक जरूरी हो तो किसी योग्य गुरु को ढूंढ कर उनके निर्देशानुसार मंत्रों का जाप करें और मंत्र में सिद्धि हासिल करें ।

  1. देवी कामाख्या का सिंदूर प्रयोग मंत्र

आप में से बहुत लोग शायद इस बात को नहीं जानते होंगे कि मां कामाख्या देवी मंदिर में एक विशेष प्रकार का सिंदूर मिलता है जिसे कामिया सिंदूर कहते हैं | यह बहुत ही प्रभावशाली सिंदूर होता है और साधारण सिंदूरो से अलग होता है यह सिंदूर आपको अन्य किसी स्थान पर नहीं मिलेगा, सिंदूर को अभिमंत्रित करके घर परिवार के सुख समृद्धि वैवाहिक जीवन व्यापार-व्यवसाय रोजगार आदि स्थानों में खुशियां प्राप्त करने के लिए उपयोग में लाया जाता है | काम्या सिंदूर को इस तरह से अभिमंत्रित किया जाता है।

कामिया सिंदूर को अभिमंत्रित करने की विधि –

सिंदूर को अभिमंत्रित करने के लिए सबसे पहले आपको एक चांदी की छोटी सी डिब्बी लेनी है और किसी भी शुभ शुक्रवार से इस पूजा को प्रारंभ करना है, जिस शुक्रवार से अब पूजा प्रारंभ करना चाहते हैं उस शुक्रवार को सुबह शाम स्नानादि करके शुद्ध हो जाएं |उसके बाद अपने पूजा गृह में पूजा स्थान पर बैठकर इस कामिया सिंदूर को उस चांदी के डब्बे में डाल दें और अपने सामने रखें उसके बाद नीचे दिए गए इस मंत्र का 108 बार जप करें। जब आपका मंत्र जप 108 बार हो जाए तो उसके बाद फिर से आपको इसी मंत्र को सात बार और जब करना है और हर बार मंत्र जप करने के बाद एक बार उस डिब्बी पर फूक लगानी है ऐसा करते हुए पूरे सात बार फूंक मारनी हैं । इस क्रिया को शुक्रवार से शुरू करके अगले शुक्रवार तक इसी तरह करें।

कामाख्याये वरदे देवी नीलपर्वतावासिनी|
त्व देवी जगत माता योनिमुद्रे नमोस्तुते||

सिंदूर का उपयोग कैसे करे –

जब आप के Kamakhya mantra जप के पूरे 7 दिन हो जाए उसके बाद उस चांदी की डिबिया में जिसमें कामिया सिंदूर रखा हुआ है उसमें थोड़ी मात्रा में केसर, गंगाजल और थोड़ा सा चंदन मिला दें, अब इस मिश्रण को जब भी जरूरत पड़े तो उसे स्वयं का तिलक करें और उस तिलक को धारण करने के बाद अब जिस किसी भी व्यक्ति या पुरुष या महिला के सामने जाएंगे वह आपसे वशीभूत हो जाएंगे।

तंत्र क्रिया या तांत्रिक साधना में मां कामाख्या देवी का सिद्ध पीठ संपूर्ण विश्व में पहले स्थान पर आता है, यहां पर हर वर्ष अंबुबाची नाम से एक मेले का आयोजन होता है | जिसमें दुनिया भर से तंत्र साधना करने वाले तांत्रिकों का जमावड़ा लगता है, जो तंत्र और मंत्र में सिद्धि प्राप्त करने के लिए यहां पर आते हैं। सिर्फ तंत्र साधना ही नहीं बल्कि दैनिक पूजा आराधना से भी मां कामाख्या देवी का आशीर्वाद अति शीघ्र प्राप्त होता है, जो भी जातक सच्चे हृदय से मां कामाख्या की पूजा-अर्चना करता है मां कामाख्या अतिशीघ्र प्रसन्न होकर उसकी हर इच्छा पूरी करती है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s