Shabar mantra 

Shabar mantra 


अपने इष्ट देव को प्रसन्न करने के लिए भक्त तरह-तरह की पूजा-अर्चना और आराधना करता है ताकि वह अपने इष्टदेव से मनोवांछित फल प्राप्त कर सके। अपने इष्ट देव को प्रसन्न करके और उनसे मनवांछित फल पाने में मंत्र का उपयोग करना सबसे उत्तम माना गया है। मंत्रों में अलौकिक शक्तियां होती है और हमारे हिंदू शास्त्र में भी मंत्रों को अत्यधिक महत्वपूर्ण माना गया है। मंत्रों की सहायता से सिर्फ देवी देवता ही नहीं बल्कि भूत, पिशाच, यक्ष या यक्षिणी को भी साधा जाता है।

मंत्रों की सहायता से जातक अपने मस्तिष्क या मन में बन रहे नकारात्मक विचार को सकारात्मक ऊर्जा में बदल सकता है। मंत्रों का उपयोग करके मनुष्य ना केवल अपना जीवन खुशहाल और सुखमय बना सकता है बल्कि मंत्रों के द्वारा दूसरों की भी मदद कर सकता है। शाबर मंत्र / Shabar mantra भी मंत्रों का एक संग्रह है जिसे बाकी मंत्रों के मुकाबले अत्यधिक शक्तिशाली माना जाता है तो आइए जानते हैं आखिर ये शाबर मंत्र है क्या –

मंत्र मुख्यतः तीन प्रकार के होते हैं – वैदिक मंत्र, तांत्रिक मंत्र और शाबर मंत्र।

कौन थे शाबर मंत्र / shabar mantra के जनक –

पुराणों के माध्यम से ऐसा कहा जाता है की शाबर मंत्र / shabar mantra के जनक गुरु सत्येंद्र नाथ और उनके प्रिय शिष्य गुरु गोरखनाथ जी थे। शाबर मंत्र की सबसे बड़ी खासियत यह होती है कि यह मंत्र स्वयं सिद्ध मंत्र होते हैं और इन्हें बाकी मंत्रों की तरह सिद्ध करने की आवश्यकता नहीं होती, यह मंत्र आमतौर पर सपेरा, आदिवासी, जादूगर, बंजारा और ऐसे ही भारत की अन्य जनजातियों के मंत्र माने जाते हैं।

Shabar mantra में प्रयोग की जाने वाली भाषा –

आमतौर पर आपने देखा होगा कि हर देवी देवताओं के लिए जो मंत्र की रचना की गई है उसमें संस्कृत भाषा का प्रयोग किया गया है पर शाबर मंत्र की रचना इसके विपरीत की गई है शाबर मंत्र / shabar mantra में संस्कृत का बिल्कुल भी उपयोग नहीं किया गया है यह बिल्कुल सरल देहाती भाषा में रचे गए हैं हालांकि कई शाबर मंत्र ऐसे भी हैं पुराणों में जिसमें हिंदी और देहाती भाषा के अलावा तमिल, गुजराती, कन्नड़, मलयालम भाषाओं का मिश्रित रूप से उपयोग किया गया है, कुछ शाबर मंत्रों को तो इस्लाम के प्रभाव के चलते उर्दू में भी रचा गया है इन शाबर मंत्रों को इस्लाम में सुलेमान मंत्रों के नाम से भी जाना जाता है।

शाबर मंत्रों (Shabar mantra) के प्रकार –

जैसा कि आप सब जानते होंगे की वैदिक मंत्रों में जिसकी रचना संस्कृत में की गई है उन मंत्रों में हम देवी देवताओं से आग्रह है और विनती करते हैं कि वह हमारी मनोकामना पूर्ण करें पर शाबर मंत्रों / shabar mantra में इसके विपरीत चार चीजों को अहम स्थान दिया गया है और वह है सौगंध, श्राप, श्रद्धा और धमकी इन चारों का प्रयोग करके शाबर मंत्र की रचना की गई है जहां हर मंत्र में सौगंध भी दी गई है श्राप भी है श्रद्धा भाव भी है और एक नटखट बालक की तरह भगवान को धमकी भी दी जाती है कि वह हमारी मनोकामना पूर्ण करें।

शाबर मंत्र के उपयोग –

बाकी मंत्रों की तरह साबर मंत्र (Shabar mantra) को मोक्ष प्राप्ति के लिए नहीं उपयोग किया जाता है शाबर मंत्र का उपयोग वशीकरण, सांसारिक कार्य, सिद्धि प्राप्ति यक्,ष यक्षिणी को साधना देवी, देवताओं को साधना इन सभी कामों के लिए उपयोग किया जाता है और जैसा कि हमने पहले ही कहा कि इन मंत्रों को सिद्ध करने की आवश्यकता नहीं होती है ये अपने आप में सिद्ध और पूर्ण मंत्र होते हैं इसलिए बिना गुरु के कोई भी मनुष्य इस मंत्र का उपयोग करके अपने सांसारिक कष्टों को दूर कर सकता है।

शाबर वशीकरण मंत्र / Shabar vashikaran mantra –

वैसे तो वशीकरण के कई मंत्र हैं पर शाबर वशीकरण मंत्र / shabar vashikaran mantra को सबसे ज्यादा प्रभावशाली और प्रचंड वशीकरण मंत्र माना गया है क्योंकि यह बहुत जल्दी अपना प्रभाव दिखाते हैं और इनका असर पूरे जीवन भर रहता है और इन्हें करना भी बहुत सरल होता है तो आइए जानते हैं वह कौन कौन से शाबर वशीकरण मंत्र है जिनका उपयोग करके आप किसी का भी वशीकरण आसानी से कर सकते हैं।

यह एक बहुत ही सरल और असरदार शाबर वशीकरण मंत्र / shabar vashikaran mantra है इस मंत्र का उपयोग करके अब किसी भी स्त्री का आसानी से वशीकरण कर सकते हैं इस मंत्र को आप केवल गुरुवार के दिन से ही प्रारंभ कर सकते हैं। जिस भी गुरुवार से आप इस मंत्र को प्रारंभ करना चाहते हो उस दिन स्नान आदि करने के बाद किसी एकांत स्थान पर प्रसन्न मन के साथ बैठ जाएं और एक डब्बी में थोड़ा सा नमक ले ले अब इस नमक के ऊपर नीचे दिए गए मंत्र सात बार उच्चारण करते हुए 7 बार उस पर फूंक मारकर इस मंत्र को अभिमंत्रित कर लें यानी हर बार मंत्र पढ़ने के बाद एक बार फूंक मारनी है ऐसा करते हुए 7 बार फूंक मारनी है।

अब इस प्रक्रिया को आपको आने वाले पांच गुरुवार तक लगातार करना है पर ध्यान रहे कि जिस गुरुवार से आपने यह मंत्र जप चालू किया था उसी समय आपको पांचों गुरुवार इस कार्य को करना है, जब पांच गुरुवार आपका हो जाए तब आपका वह अभिमंत्रित नमक तैयार हो जाएगा वशीकरण क्रिया के लिए अब इस नमक को अब जिस स्त्री का वशीकरण करना चाहते हैं उसके खाने में मिलाकर उसे दे दे उस खाने को ग्रहण करने के साथ ही 5 से 6 दिन के भीतर वह स्त्री आप के वशीभूत हो जाएगी और आपको वशीकरण सफल हो जाएगा। मंत्र में जहां (देवदंती) लिखा है वह पर उस स्त्री का नाम ले जिसे आप अपने वश में करना चाहते है ।

  1. शाबर वशीकरण मंत्र – पान से वशीकरण / Paan se vashikaran

शाबर वशीकरण मंत्र – पान से वशीकरण / Paan se vashikaran – इस वशीकरण मंत्र का उपयोग करके आप किसी भी स्त्री पुरुष या अपने शत्रु का वशीकरण आसानी से कर सकेंगे। इस वशीकरण क्रिया को करने के लिए कोई भी दिन निर्धारित नहीं है इसे आप किसी भी दिन किसी भी समय कर सकते हैं। इस पान से वशीकरण / Paan se vashikaran क्रिया को करने के लिए सबसे पहले आपको एक पान लेना है उस पान के ऊपर नीचे दिए गए मंत्र को पढ़ते हुए 21 बार फूंक मारकर उस पान को अभिमंत्रित कर लेना है।

फिर जिस किसी भी पुरुष स्त्री या फिर शत्रु को यह पान खिलाएंगे वह आपका मित्र बन जाएगा और अगर आप चाहते हैं कि उसका वशीकरण हो जाए तो इसी क्रिया को करते हुए दूसरी बार आप फिर से उसे वह पान खिला दे ऐसा करने से वह पूरी तरह आपके वश में हो जाएगा।

  1. शाबर वशीकरण मंत्र – आंखो द्वारा वशीकरण / Aankh se vashikaran.

आंखो द्वारा वशीकरण / Aankh se vashikaran. – यह एक बहुत ही प्रभावशाली और प्रचंड वशीकरण मंत्र है इसको उपयोग करते समय यानी इस मंत्र को जपते समय अब जिस महिला के से आंख मिलाते हुए इस मंत्र को जपेंगे वह महिला आप से वशीभूत हो जाएगी और जीवन भर के लिए आपकी दासी हो जाएगी।

  1. शाबर वशीकरण मंत्र – गुड़ द्वारा वशीकरण / Gud se vashikaran

Gud se vashikaran – इस वशीकरण क्रिया का प्रयोग आप केवल स्त्री या पुरुष पर ही कर सकते हैं इस वशीकरण / vashikaran का प्रयोग शत्रु पर कभी ना करें वरना असर बहुत ही उल्टा होगा। इस वशीकरण प्रयोग का उपयोग सिर्फ शनिवार को ही करें, शनिवार के दिन पास के किसी भैरव बाबा के मंदिर में जाकर उनकी पूजा-अर्चना करें और फिर थोड़ा सा गुड लेकर नीचे दिए गए मंत्र का 21 बार जप करते हुए उस पर 21 बार फूंक मारकर उसे अभिमंत्रित करके जिस किसी भी स्त्री या पुरुष को खिलाएंगे वह आपका दास हो जाएगा और जीवन भर आप कि बात मान के आपके साथ रहेगा ।

  1. शाबर वशीकरण मंत्र – चमेली के तेल से वशीकरण / Chameli ke tel se vashikaran

Chameli ke tel se vashikaran – इस मंत्र का प्रयोग करके आप पुरुष, स्त्री या शत्रु का वशीकरण कर सकते हैं पर इसे सिर्फ शनिवार के दिन ही कर सकते हैं और shabar vashikaran क्रिया में उपयोग किए जाने वाले चमेली का तेल एकदम शुद्ध चमेली का तेल होना चाहिए उसमें कोई भी केमिकल मिला नहीं होना चाहिए इस बात का बिल्कुल ध्यान रखें। अगर चमेली के तेल में जरा सी भी मिलावट हुई तो यह वशीकरण काम नहीं करेगा । जब आपको शुद्ध चमेली का तेल मिल जाए तो नीचे दिए गए मंत्रों को 7 बार जप करते हुए उस चमेली के तेल पर 7 बार फूक मार लें ऐसा करने से वह चमेली का तेल अभिमंत्रित हो जाएगा |

अब इस तेल को अब जिस भी पुरुष स्त्री या शत्रु जिस किसी का भी वशीकरण करना चाहते हैं उस पर छिड़क दें पर छिड़कते समय ध्यान रहे कि उसे इस बात का पता ना हो कि आपने उसके ऊपर कुछ छिड़का हो अगर उसे बिना पता चले आप ने तेल उस पर छिड़क दिया तो आपकी वशीकरण क्रिया संपूर्ण हो जाएगी और वह आपके वश में हो जाएगा ।

  1. शाबर वशीकरण मंत्र – तिलक से वशीकरण / Tilak se vashikaran

यह बहुत ही सफल और अचूक वशीकरण प्रयोग है जिसका कोई नकारात्मक परिणाम नहीं होता |इस वशीकरण क्रिया को करने के लिए आपको अपने पूजा गृह में एक हनुमान जी की छोटी सी मूर्ति की आवश्यकता पड़ेगी अगर आपके पूजा घर में हनुमान जी की मूर्ति नहीं है तो बाजार से छोटी सी हनुमान जी की मूर्ति लाकर अपने पूजा गृह में उसे स्थापित करें पूरी पूजा विधि के साथ और ध्यान रहे की हनुमान जी की फोटो के सामने इस वशीकरण प्रयोग ना करें सिर्फ मूर्ति के सामने ही करें। इस वशीकरण क्रिया को सिर्फ शनिवार के दिन कर सकते हैं।

तो जिस भी शनिवार से आप यह वशीकरण क्रिया शुरू करना चाहते हो सुबह स्नान आदि करने के बाद हनुमान जी की आरती करें और हनुमान जी को सिंदूर और चोला चढ़ाएं इसके बाद नीचे दिए गए शाबर मंत्र का एक माला जाप करें ध्यान रहे कि जिस शनिवार से आपने यह मंत्र जाप चालू किया है उस दिन से लेकर 21 दिन तक लगातार आपको यह जाप करना है।

जब आप का 21 दिन का जाप खत्म हो जाए, तो जब भी आवश्यकता पड़े वशीकरण करने की तो किसी भी चौराहे से ध्यान रहे सिर्फ चौराहे से जहां चार सड़क मिलती हो वहां बीच से थोड़ी सी मिट्टी उठा ले और इस मंत्र को एक बार पढ़ते हो उसमें मिट्टी पर फूंक मारे ऐसा करने से वह मिट्टी अभिमंत्रित हो जाएगी और उस मिट्टी का एक भाले के आकार का टीका अपने माथे पर लगा ले अब आप जिस किसी भी व्यक्ति स्त्री या अपने शत्रु के सामने जाएंगे इस मिटटी के तिलक को लगाकर वह आप पर वशीभूत हो जाएगा और आपकी जी हुजूरी करने लगेगा। ध्यान रहे कि इस वशीकरण क्रिया को उपयोग अमावस के दिन ना करें और ना ही राहु काल में करें।

  1. शाबर वशीकरण मंत्र स्त्री वशीकरण / Stri Vashikaran

इस शाबर वशीकरण मंत्र का उपयोग केवल महिला पर ही कर सकते हैं जैसे की पत्नी के लिए प्रेमिका के लिए या अन्य किसी महिला के लिए इस वशीकरण / vashikaran क्रिया का उपयोग पुरुष पर नहीं किया जा सकता। इस क्रिया को भी आप किसी भी दिन कर सकते हैं आप जिस किसी भी महिला का वशीकरण करना चाहते हैं उसके बाएं पांव की मिट्टी उठा ले पर मिट्टी उठाते समय यह ध्यान रहे कि ना तो उस महिला को इस बात का पता चले कि कि आपने उसके पैर की मिट्टी उठाई है और ना ही कोई आपको वह मिट्टी उठाते हुए देखे।

जब मिट्टी आप उठा ले तो उस मिट्टी को अपने दाएं हाथ में रखकर नीचे दिए गए मंत्र का 7 बार जप करते हुए उस मिट्टी के ऊपर 7 बार फूंक मारे और फिर धीरे से 48 घंटे के अंदर उस मिट्टी को उस महिला के सर पर डाल दे 3 से 4 दिन के अंदर को महिला आप की तरफ आकर्षित होना शुरू हो जाएगी और आपके पीछे पागल हो जाएगी।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s