तबादला रुकवाने का उपाय मंत्र

तबादला रुकवाने का उपाय मंत्र


तबादला रोकने का टोटका। मनचाहे स्थानांतरण के उपाय मनोवांछित तबादला होने के उपाय – नौकरी के दौरान तबादला होना एक आम सी बात है, कुछ नौकरियों की प्रकृति ऐसी होती है, जिसमें बार-बार तबादले होते हैं। बहुत ही कम क्षेत्र ऐसे हैं, जहां जीवन भर व्यक्ति एक ही जगह रहकर काम करता हो। कई बार शहर वही होता परंतु विभाग बदल जाते हैं। यह किसी भी प्रतिष्ठान के लिये यह जरूरी भी है, इससे कर्मचारी तथा अधिकारियों पर नियंत्रण भी रहता है, साथ ही उनके अनुभवों का जहां आवश्यकता हो वहां उपयोग होता है। परंतु, बार-बार किसी नई जगह तथा नए लोगों के बीच जाकर जाकर गृहस्थी जमाना, अपनी कार्य कुशलता सिद्ध करना टेढ़ी खीर है। गृहस्थी का टीम-टाम उठाने, ले जाने में आर्थिक नुकसान तो होता ही है, यदि घर में पढ़ने-लिखने वाले बच्चे हों तो उनके लिए भी समस्या हो जाती है। कई अधिकारी तो मात्र खुंदक निकालने के लिए अपने अधीनस्थ को ऐसी जगह तबादला कर देते हैं जहां सरलता से पानी भी नसीब न हो। इस दुखदायी परिस्थिति से बचने के लिए कई लोग नौकरी तक छोड़ देते हैं ।

तबादला रोकने के टोटके

यदि बार-बार होने वाले तबादलों से तंग आ चुके हों, तो निम्नलिखत उपाय आजमाएं –

गुड़ की सात डलिया, साबुत हल्दी की सात गांठें तथा एक रूपये का सिक्का लेकर, गुरूवार के दिन नए पीले कपड़े में बांध लें रेलवे लाइन के दूसरी तरफ फेंक दें। फेंकते समय अपनी इच्छा स्पष्ट शब्दों में उच्चारित कर बोलें।
पांच ग्राम वजन वाले सुरमें की एक डली लेंकर किसी भी सुनसान जगह पर जाकर ताजा गड्ढा खोदकर गाड़ दें। जिस वस्तु से जमीन खोदी हो, उसे वापस लेकर नहीं आना है। ध्यान रखें 5 ग्राम वजनयुक्त सूरमे की एक ही डली हो।
तबादले की भनक लगते ही यह टोटका प्रारंभ करें। प्रातः काल स्नादि क्रिया निवृŸा होकर दो तांबे का लोटा लें, एक लोटे में जल तथा लाल मिच के 21 बीज तथा दूसरे लोटे में जल के साथ लाल फूल, गुड़ तथा बेलपत्र डालकर सूर्य देव को अध्र्य दें। यह उपाय कम से कम 21 दिन नियमित रूप से करें।
प्रतिदिन स्नान के बाद ओम सूर्याय नमः मंत्र का एक माला जाप करें।
यदि तबादलों के कारण किसी स्थान पर दो वर्ष भी नहीं टिक पा रहे हों तो 10 पीले नींबू ले लें तथा उसे किसी नदी की धारा में प्रवाहित कर दें।
सवा चार रत्ती लहसुनिया चांदी में मढ़वाकर गुरूवार को सूर्योदय से पूर्व धारण करें।
ढाक(पलाश) के पत्तों से एक दोना बनाएं, अब उसमें लाल गुलाब की पत्तियों से भरकर नदी में बहा दें। यह उपाय संध्या काल में करें।
एक ऐसा सिक्का लें जिसमें कोई चेहरा बना हो, सुनसान गली में टहलते हुए हाथ में वह सिक्का लेकर कल्पना करें उसमें बना चेहरा उस अधिकारी का है, जो आपके तबादले के लिए जिम्मेदार है। अब ऊपर की तरफ सिक्का उछाले तथा मन ही मन कहें -जो ऊपर जा रहा है, वही एक दिन नीचे आएगा, अथवा अत्यधिक प्रभावशाली है जो, वह एक दिन विनम्र और दयावान भी होगा। ध्यान रखें ऐसा करते कोई आपको देखे नहीं। रात के समय गली सुनसान रहती है, इसलिए यह उपाय रात में ही करना चाहिये।
स्वर्ण जड़ित माणिक्य रत्न की अंगूठी रविवार के दिन दाहिने हाथ की अनामिका में धारण करें।
प्रति दिन आदित्य ह्नदय स्त्रोत्र का पाठ करें।
प्रत्येक शनिवार पानी तथा गुड़ मिश्रित दूध पीपल के पेड़ पर चढ़ाएं। कार्य स्थल संबंधी सभी समस्याएं दूर होती हैं।
सोमवार के दिन नौकरी में जितने भी वर्ष हो गए हों, उतनी पीली कौड़ियां पूजा स्थल पर रखंें , पीले आसन पर बैठकर सूर्य देव की आराधना करें व सूर्य मंत्र का जाप अथवा आदित्य ह्नदय स्त्रोत्र का पाइ करें। ले लें
मनोवांछित स्थानांतरण के उपाय/मंत्र

एक ही स्थान पर कई वर्षों तक काम करते रहने के दौरान कई बार सहकर्मियों से खटपट, या बॉस के साथ अनबन की स्थिति उत्पन्न हो जाती है। ऐसा न भी हो, तो किसी अन्य कारण से आ रही समस्याओं के कारण व्यक्ति उस स्थान को छोड़कर ऐसी जगह जाना चाहता है, जहां वह सुकून से काम कर सकें। ऐसी परिस्थिति में निम्नलिखित उपाय में से किसी को भी आजमाया जा सकता है।

प्रत्येक मास किसी एक रविवार को तांबे का पात्र, लाल कपड़ा, गुड़, केसर, मसूर, रक्त चंदन तथा गेहूं का दान करें।
मनपसंद तबादला के लिए चंद्रदेव की शरण में जाना भी लाभकारी होता है। इसके लिए शुक्रवार की सुबह ब्रम्हमुहूर्त से पूर्व जाग जाएं तथा स्नानादि से निवृŸा होकर अपने ऊपर से दही अथवा उजली बर्फी सात बार ऊसार लें तथा चंद्र देव से बोलकर प्रार्थना करें -जगत को अपनी शीतलता प्रदान करने वाले हे चंद्र देव! मेरा तबादला अमुक स्थान पर करवा दें। ऐसा सात बार बोलने के बाद, बर्फी या दही जो भी इस्तेमाल किया हो उसे सूरज उगने से पहले किसी चैराहे पर रख दें। यह उपाय किसी खुली जगह पर जिस दिशा में चंदमा नजर आ रहा हो उसी तरफ मुख करके करना चाहिए। यह इच्छा पूरी हो जाए तो चंद्र देव को खीर अथवा उजली बर्फी अर्पित करें।
प्रति दिन स्नान के बाद सूर्यदेव को तांबे के लोटे में जल के साथ 108 लाल मिर्च का बीज मिलाकर अघ्र्य दें,। अघ्र्य देते समय ओम घृणि सूर्याय आदित्याय नमः मंत्र का पाठ करते रहें। यह उपाय कम से कम 21 दिन अवश्य करें।
रात को बिस्तर पर जाने से पहले अच्छी तरह हाथ पैर धो ले तथा सोने से पहले हनुमान चालीसा का नियमित रूप से पाठ करें तथा हनुमान जी से अपनी इच्छित स्थान पर तबादले के लिए बाधा नाश करने की प्रार्थना करें। ध्यान रखें, कभी भी पैर से पैर रगड़कर नहीं धोना चाहिये।
यदि तबादलों के कारण किसी स्थान पर दो वर्ष भी नहीं टिक पा रहे हों तो 10 पीले नींबू ले लें तथा उसे किसी नदी की धारा में प्रवाहित कर दें।
निम्नलिखित मंत्र का प्रति दिन एक माला जाप करें-
ओम परब्रम्ह परमात्मने नमः

उत्पत्ति-स्थिति-प्रलयं-कराय ब्रम्ह हरिहराय

त्रिगुणात्मने सर्व कौतुकानि दर्शय, दत्तात्रेयाय नमः

मम सिद्धिं कुरू-कुरू स्वाहा।

उक्त मंत्र में मम के स्थान पर अपना नाम लें| इसकी मदद से किसी भी मनोकामना की सिद्धि हो सकती है, इसलिए इसका उपयोग तबादला रूकवाने के साथ-साथ मनोवांछित तबादले के लिए भी करवाया जा सकता है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s