नारी वशीकरण मंत्र

नारी वशीकरण मंत्र


नारी वशीकरण मंत्र, नारी अपनी अद्भुत सुंदरता, भाव-भंगिमा, प्रेम की आतुरता, चंचलता और यौन-आकर्षण के लिए जानी और पहचानी जाती है, तो उसके पहेलीनुमा मनोविज्ञान और विचार को त्रिया चरित्र का नाम दिया गया है। यही कारण है कि किसी भी पुरुष के लिए नारी का वशीकरण आसान नहीं होता है। मनपसंद स्त्री को सम्मोहित करने और उसे वशीभूत बनाए रखने के लिए काफी प्रयास करने होते हैं।

नारी वशीकरण मंत्र

वैदिक और ज्योतिषीय उपाय से लेकर तंत्र-मंत्र साधना, जादू-टोना और टोटके के तरीके अपनाए जाते हैं। वशीकरण के कुछ विभिन्न तरीके इस प्रकार हैं, इसके विशेष गुरु के परामर्श और दिशा-निर्देश पर किया जाना चाहिए। क्योंकि वशीकरण साधना और मंत्र-जाप में काफी सावधानी बरतनी पड़ती है।

वैदिक या तांत्रिक अनुष्ठान अटल आत्मविश्वास और निर्भयता के साथ किए जाते हैं। वैसे नारी वशीकरण का प्रयोग उसके आचरण में बदलाव लाने और मन में प्रेम भाव जगृत करने के लिए किया जाना चाहिए। इसमें अनैतिक संबंध बनाने के लिए किया गया उपाय गलत और उलटा परिणाम दे सकता है।

नारी वशीकरण मंत्रः जिस किसी मनपसंद नारी को आप दिल से चाहते हैं, उसके वशीकरण के लिए निम्नलिखित मंत्र का ग्रहण काल में 11,000 जाप करना चाहिए। यह मंत्र रविवार, गुरुवार और मंगलवार के दिन करें। प्रातः स्नान आदि के बाद दैनिक पूजा के दौरान बायीं हथेली पर वशीकरण किए जाने वाली नारी और दाईं पर अपना नाम लिखकर जाप करें। तीन दिनों के अनुसार जाप संख्या को बांट लें। मंत्र हैः-ऊँ कामिनी रंजनि स्वाहा।

काजल से वशीकरणः स्त्री का वशीकरण काजल से भी किया जा सकता है, लेकिन उसे विशेष तरह से अपाके द्वारा बनाए जाने चाहिए। होली या दीपावली के दिन लाल एरंड के पेड़ की लकड़ी तोड़ लाएं। उसे शाम में जलाकर काजल बनाएं। उस काजल को मंगलवार या रविवार के दिन सूर्यास्त के बाद अपनी आंख में लगाएं और नीचे दिए गए मंत्र का 1100 बार जाप करें। मंत्र हैः-

ऊँ नमो कालभैरुं काली रात, काला चाला, आधी रात, काला रे तू मेरा वीर

प्रनारी ते राखे सीर, बेगी जा छाती पर ल्यात सूती होय तो जगाया ल्यात!

सात दिन की साधनाः नीचे दिए गए वैदिक मंत्र का ग्रहण काल में 10,000 बार जाप करने से स्त्री वशीभूत हो जाती है। ग्रहण काल के समय मन में स्त्री का ध्यान करते हुए अपने इष्टदेव को याद करें। साथ में एक लोटा पानी रखें। नीचे दिए गए मंत्र का जाप करें। इस दौरान बीच-बीच में पानी भी पीते रहें। ऐसा कर आप पानी को मंत्र से अभिमंत्रित कर लेंगे।

उसके बाद सुबह कुल्ला कर उसी लोटे में ताजा पानी भरें। अभिमंत्रित मंत्र का 11 बार जाप के बाद पूरा पानी पी जाएं। इस प्रक्रिया को सात दिनों तक करें। आप देखेंगे कि आपके सात दिनों की साधना जबरदस्त रंग दिखाएगी और स्त्री आपके सम्मोहन में आ जाएगी। मंत्र हैः- ऊँ नमः क्षिप्र कामिनी अमुकीं में वशमानय स्वाहा!!

शाबर वशीकरण मंत्रः मनचाही स्त्री के वशीकरण के लिए नीचे दिए गए शाबर मंत्र का उपयोग भी महत्वपूर्ण तरीका है। इसके लिए मंत्र को कंठस्थ करें उसके जरिए मुट्ठी भर मिट्टी अभिमंत्रित करें। प्रयोग विधि बहुत ही सरल है। शाम के समय सूर्यास्त के ठीक बाद दाएं हाथ में मिट्टी रखें और घर के किसी एकांत में पूर्व दिशा की ओर मुंह कर बैठ जाएं। मंत्र का एक बार जाप करें और फिर मिट्टी पर फूंक मारें।

इस तरह से कुल 21 बार जाप करें। इसके लिए आत्मविश्वास की जरूरत होती है। अभिमंत्रित मंत्र का प्रयोग करने के लिए उसे किसी पुड़िया में संभाल कर रख लें। जब भी मनपसंद स्त्री आपके पास आए आप चुपके से पुड़िया में रखे अभिमंत्रित मिट्टी का एक चुटकी उसके सिर पर डाल दें और उसपर अपना विश्वास पूर्ण अधिकार जताएं। जाप का मंत्र हैः-

काला कलुआ चैंसठ वीर, ताल भागी तोर!

जहां को भेजूं वहीं को जाए, मांस-मज्जा को शब्द बन जाए!!

अपना मारा आप दिखाए!!!

चलत वाण मारूं, उलट मूठ मारूं!

मार कलुआ, मार, तेरी आस पर चार चैमुखी दीया!

मार वादी की छाती पर।

इतना काम मेरा न करे तो तुझे, माता का दूध हराम!

नमक और शाबर मंत्रः आंचलिक भाषा में उच्चारण में सरल शाबर मंत्र अचूक प्रभाव देता है। इससे पहले घर में उपलब्ध साधारण सामन पर प्रयोग कर अभिमंत्रित कर लिया जाता है, फिर उसका प्रयोग वशीकरण में होता है। यहां नीचे दिए गए मंत्र जाप और प्रयोग से केवल स्त्री का ही वशीकरण किया जाता है।

तांत्रिक या शाबर मंत्र प्रयोग के आध्यात्मिक गुरु के अनुसार इसके लिए गुरुवार की संध्या का समय उपयुक्त है। घर के किसी एकांत स्थान पर आसन लगाएं। मुंह पूरब की ओर रखें। अपने साथ छोटी सी ढक्कन वाली डिब्बी में नमक रखें। नमक की डिब्बी को बगैर ढक्कन के दाएं हाथ की हथेली पर रखें और नीचे दिए गए शाबर मंत्र का 21 बार उच्चारण के साथ जाप करें।

हर जाप के बाद डिब्बी के नमक पर फूंक मारें। उसके बाद डिब्बी को बंद कर नमक को सुरक्षित रख लें। इस प्रक्रिया को गुरुवार से लगतार पांचवें गुरुवार तक करें। यानी कि मंत्र जाप कुल 29 दिनों तक किया जाना है। प्रतिदिन का जाप स्थान और समय में बदलाव नहीं करें और अनियमितता नहीं होने दें। जाप मंत्र हैः-

ऊँ भगवती भग भाग दायिनी अमुक(यहां वशीकरण की जाने वाली स्त्री का नाम उच्चारित करें।) ममः वश्यं कुरु कुरु स्वाहा!!

पूरी तरह से अभिमंत्रित नमक स्त्री को खिला दें। ऐसा करते ही उस स्त्री के साथ बातचीत में आपके प्रति घुलनशीलता बढ़ेगी और वह धीरे-धीर वशीभूत होने लगेगी।

अविवाहित लड़की का वशीकरणः प्रेम संबंध में मधुरता लाने या रूठी प्रेमिका को मनाने के लिए कन्या वशीकरण मंत्र का प्रयोग किया जा सकता है। वे मंत्र हैंः-

ऊँ नमः कामाक्षी देवी(लड़की का नाम) नारी में वशं कुरु कुरु स्वाहाः!!
ऊँ नमो काली भैरव निशि राती काल आया आधा,
रात चलती कतार बांधे तू बावन बार पर नारी से राखे!

गीर मन पकरी वाको लावे सोवति का जगाय लावे,

बैठी को उठाय लावे फुरो मंत्र इश्वरो वाचा!!

ऊँ नमो अघोरे ही अघोरे हुं घोर घोरतरे सर्व सर्वे,
नमस्ते रूपे हः ऐं ह्रीं क्लीं चामुंडायै विच्चे विच्चे!

नवाक्षर चंडीमात्रेण निमंत्रयेत्तव बलिपुर्वकम््!!

इनमें किसी एक मंत्र का जाप कम से कम 21 बार और अधिक से अधिक 108 बार प्रातः अपनी सुविधा के अनुसार किया जा सकता है। इसकी शुरूआत से पहले मन में लड़की का सात बार नाम लिया जाना चाहिए।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s