सियार सिंगी का वशीकरण प्रयोग

सियार सिंगी का वशीकरण प्रयोग


सियार सिंगी वशीकरण प्रयोग, सियार सिंगी की पहचान/फायदे,सियार सिंगी को सिद्ध करने की विधि – तंत्र-मंत्र के अनेक प्रयोगों में सियार सिंगी का उपयोग किया जाता है| यह चमत्कारी परिणाम देने वाली वस्तु है| इससे संबन्धित प्रयोगों अथवा इसके फ़ायदों के बारे में जानने से पूर्व यह जानना आवश्यक है कि सियार सिंगी क्या है और इसकी पहचान क्या है| दरअसल प्राणी शास्त्रियों के अनुसार सियार को सिंह(हॉर्न) नहीं होता है| परंतु जब वह विशेष मुद्रा में हुआ-हुआ करता है तो उसके मस्तक पर एक नुकीली संरचना उभर आती है जो हड्डियों के समान सख्त होती है| यही नुकीली संरचना सियार सिंगी कहलाती है| अनेक साधक इसे सिद्ध करने के बाद अपनी जंघा चीरकर उसके भीतर सियार सिंगी रख लेते हैं| ऐसा करने से वह अजेय हो जाते हैं| परंतु यह सामान्य मनुष्य के वश की बात नहीं है इसलिए ऐसी चेष्टा नहीं करनी चाहिए|

सियार सिंगी की पहचान/फायदे

यह भूरे बालों से ढँकी होती है| हैरत की बात यह है कि यदि इसे सिंदूर में मिलाकर रख दिया जाए तो उसके बाल बढ़ने लगते हैं| बालों का बढ़ना ही इसकी पहचान है| यह छोटी, बड़ी, चपटी हो सकती है परंतु किसी भी स्थिति में आंवले से बड़ी न नहीं होती है| तांत्रिक-मांत्रिक इससे बड़े-बड़े प्रयोग करते हैं, साधारण व्यक्ति इसे सिर्फ सिंदूर की डिब्बी में भरकर रखे तो भी अत्यंत कल्याणकारी होता है| इसके अतिरिक्त –

होली के दिन सियार सिंगी को चांदी की डिब्बी में रख लें तथा प्रत्येक पुष्य नक्षत्र में सिंदूर चढ़ाएँ| इससे धन का प्रवाह होता है, कर्ज से मुक्ति मिलती है|
तांबे या चांदी की डिब्बी में सियार सिंगी को भरकर उसके ऊपर पहले लौंग इलायची रखें, पुनः उसके ऊपर सिंदूर डालकर डिब्बी कसकर बंद कर दें| अब उस डिब्बी को लाल कपड़े में लपेटकर पूजा स्थल, गल्ला, तिजोरी कहीं भी रख दें| अब नित्य उस स्थान पर’ ॐ नमो भगवती पद्मा श्रीम ॐ हरीम, पूर्व दक्षिण उत्तर पश्चिम धन द्रव्य आवे, सर्व जन्य वश्य कुरु कुरु नमःl” मंत्र का जाप पाँच बार करे| जो भी समस्या हो मन ही मन कहें| पारिवारिक जीवन जीने वाले लोगों के लिए यह विधि आदर्श है|
सियार सिंगी वशीकरण प्रयोग

प्रयोग – 1

वैसे सियार सिंगी एक दुर्लभ वस्तु है, यदि यह किसी प्रकार मिल जाए तो इससे अचूक वशीकरण प्रयोग किए जा जा सकते हैं| उदाहरण के लिए सियारसिंगी की सहायता से किए जाने वाले कुछ कारगर प्रयोग निम्नलिखित हैं –

यह प्रयोग शुक्रवार को करें| स्टील की प्लेट पर जिसे वश में करना हो उसका नाम रोली या कुमकुम से लिख लें| अगर उसकी कोई तस्वीर आपके पास हो तो लिखे गए नाम के ऊपर उसकी तस्वीर रख दें| पुनः तस्वीर के ऊपर सियार सिंगी स्थापित करें| इस सियार सिंगी को आराध्य समझते हुए केसर से तिलक करें, जल, पुष्प, अच्छत एवं गंध(इत्र)अर्पित करें, मिष्ठान्न का भोग लगाएँ| अब 108 बार निम्नलिखित मंत्र का जाप करें –

बिस्मिलाह मेह्मंद पीर आवे घोढ़े की असवारी ,पवन को वेग मन को संभाले, अनुकूल बनावे , हाँ भरे , कहियो करे , मेह्मंद पीर की दुहाई , सबद सांचा पिण्ड काचा फुरो मंत्र इश्वरो वाचा.
यह मुसलमानों में प्रचलित प्रसिद्ध आजमाया हुआ मंत्र है| निरंतर 11 दिनों तक प्रतिदिन 108 बार जाप करने से सियार सिंगी अभिमंत्रित हो जाता है| ग्यारह दिन के पश्चात नाम लिखा हुआ स्टील की प्लेट, चित्र तथा सियार सिंगी किसी लाल कपड़े में बांध कर कहीं रख दें| जब तक वह चित्र सियार सिंगी के साथ बंधा रहेगा तब तक वह व्यक्ति आपसे सम्मोहित रहेगा| इसकी ऊर्जा बनाए रखने के लिए प्रतिदिन लाल कपड़े में बंधी सियार सिंगी के समक्ष 21 बार नित्य इस मंत्र का जाप करते रहें|

सियार सिंगी का वशीकरण प्रयोग 2

नवरात्रि, अथवा शनिवार को रात्रि के 10 बजे के उपरांत एकांत कक्ष में यह प्रयोग प्रारम्भ करें| सर्व प्रथम देवी चामुंडा की प्रतिमा अथवा चित्र किसी काष्ठ पीठिका पर लाल वस्त्र बिछाकर स्थापित करें| चित्र के सम्मुख एक थाली रखें, उसपर छः कोण युक्त दो ताराकृति अंकित करें| मध्य में सिंदूर से बिंदी लगाएँ तथा उसके ऊपर जोड़ा सियार सिंगी(नर तथा मादा) रख दें|

पुनः भूमि पर भी रोली अथवा कुमकुम से छः कोण युक्त ताराकृति का अंकन करें| उसके मध्य भाग में सिंदूर से बिंदी लगाएँ| बिंदी के ऊपर थोड़ा सा जल जल भरा लोटा रख दें, उसके ऊपर दीपक लगा दें| अब दीपक में दो साबुत लौंग रख दें| इस इंतजाम के पश्चात चमेली अथवा गुग्गल से धूप जलाएँ|

इसके बाद, पुष्प को जल में भिंगोकर देवी चामुंडा की प्रतिमा अथवा चित्र पर छींटे डालें, गोरोचन से तिलक करें, इत्र एवं अक्षत अर्पित करें| मिष्ठान्न का भोग लगाएँ| अब जिस व्यक्ति को वश में करना हो यदि वह स्त्री है तो मादा सियार सिंगी के ऊपर और पुरुष हो तो नर सियार सिंगी के ऊपर उसका चित्र रखें| यदि आप पुरुष है तो अपना चित्र नर सियार सिंगी के ऊपर स्त्री हैं तो स्त्री सियार सिंगी के ऊपर रखें| अब इस जोड़े का पंचोपचार विधि से पूजन करें| अब हाथ में दो लौंग तथा दो इलायची लें तथा देवी चामुंडा से अपने अभीष्ट हेतु प्रार्थना करें कि मैं ––अमुक गोत्र की अमुक व्यक्ति को अपने वश में करना चाहती/चाहता हूँ और इसी निमित्त से यह अनुष्ठान संपादित कर रही हूँ| ऐसा कहकर लौंग और इलायची देवी चामुंडा को अर्पित कर दें|

पुनः दो लौंग और दो इलायची लेकर सियार सिंगी के जोड़े को संबोधित करते हुए कहें कि – अब तुम मेरे पास हो मेरे हित में अमुक व्यक्ति को मेरे वश में करो| ऐसा कहकर लौंग तथा इलायची उसे अर्पित कर दें| पुनः सियार सिंगी पर लगे तिलक को स्पर्श कर उसी से अभीष्ट व्यक्ति के चित्र पर तिलक करें| यदि पुरुष को वश में करना हो तो मादा सिंगी का तिलक उठाएँ, स्त्री को वश में करना हो तो पुरुष सिंगी का तिलक उठाएँ|

अगले चरण में हकीक की माला पर निम्नलिखित मंत्र का 5 माला जाप करें –

ॐ नमो भगवते रुद्राणी चमुन्डानी घोराणी सर्व पुरुष क्षोभणी सर्व शत्रु विद्रावणी।

ॐ आं क्रौम ह्रीं जों ह्रीं मोहय मोहय क्षोभय क्षोभय …

मम वशी कुरुं वशी कुरुं क्रीं श्रीं ह्रीं क्रीं स्वाहा।

सियार सिंगी को सिद्ध करने की विधि

यह जाप तथा पूजन निरंतर 21 दिन तक करते रहें| नित्य पूजा के पश्चात प्रयुक्त मिठाई, पुष्प, अक्षत आदि को किसी पेड़ की जड़ अथवा चींटियों के बिल के समक्ष रख आएँ| अन्य वस्तुओं को लाल कपड़े में बांधकर सुरक्षित रख दें| बांधते वक्त अपना चित्र तथा अभीष्ट व्यक्ति का चित्र एक दूसरे की तरफ मुंह कर के रखें और उसके ऊपर सियार सींगियों को रखें| लोटे के ऊपर रखे दीपक का तेल थोड़ा बहुत रिसकर लोटे में गिर जाता है| उसे किसी चम्मच की सहाता से निकालकर काँच की छोटी सी शीशी में रख लें| प्रतिदिन तेल काँच की शीशी में भरने के बाद मंत्र जपकर उस पर तीन बार फूँक मारे| 21 दिन बाद काफी मात्र में तेल इकट्ठा हो जाएगा| दीपक में रखी जली हुई लौंग भी किसी शीशी में रखते जाएँ| 21 दिन के बाद वह व्यक्ति खुद आपके पास आएगा| यदि न आए तो सिर्फ जप करते रहें|

अब इस प्रयोग में इस्तेमाल की गई सभी वस्तुएँ उस व्यक्ति को वशीभूत करने के काम आ सकती हैं जैसे

सियार सिंगी पर चढ़ी लौंग को पीसकर चूर्ण बना लें और जैसे ही वह आपके सामने उपस्थित हो मन ही मन मंत्र दोहराते हुए उसके ऊपर छिड़क दें| वह आपसे वशीभूत होकर आपका दास बन जाएगा|
देवी चामुंडा को अर्पित लौंग इलायची उसके खाने-पीने वाली वस्तु में मिलाकर खिला दें|
गोरोचन का तिलक या तो उस व्यक्ति के मस्तक पर कर दें अथवा उसके ऊपर छिड़क दें|
इसमे ध्यान रखने योग्य तथ्य यह है कि पूजा में प्रयुक्त सामग्रियाँ असली हो|

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s